बनारस टॉकीज़

बनारस की तो बात ही निराली है। अपवादों का शहर, घाटों का शहर, ज्ञान और ज्ञानियों का शहर है यह बनारस। इसी बनारस के एक विश्वविद्यालय के ‘भगवान दास’ नामक छात्रावास के छात्रों की कहानी है- “बनारस टॉकीज़”। यहाँ भविष्य के वकील और वर्तमान के छात्र रहते हैं। जब कैम्पस में होते हैं तो एक … Continue reading बनारस टॉकीज़

‘कितने पाकिस्तान’

'कितने पाकिस्तान' सन् 2000 में लिखी गई कमलेश्वर की पुस्तक है। तथ्य और आलोचना से समृद्ध यह उपन्यास स्वयं में इतिहास के एक खजाने से कम नहीं है। मानव इतिहास के साथ इसमें राष्ट्रवाद, साम्प्रदायिकता और पश्चिमवाद पर खुलकर टिप्पणी की गई है। अनेकानेक उदाहरण देते हुए कमलेश्वर ने यह समझाया है कि समाज के … Continue reading ‘कितने पाकिस्तान’