रक़ीब

साहिलों से दूर, तूफ़ानों में आ गयामंज़िल का मुसाफ़िर, महफ़िल में आ गया चिलमन हटाने आज वो आए हैंइस प्यासे के पास कैसे कुआँ आ गया शराब तो मुझे चढ़ती ही नहींवो तो तुम सामने थे तो नशा आ गया सितारों के सुकून में ख़लल पड़ गयाचॉंद जो आज मेरे हुजरे में आ गया तासीर … Continue reading रक़ीब

होली

जब पूछा उसने मुझसे-"रंगूँ तुम्हें किन रंगों से?"मैंने कहा-रंगना मुझे तुम उस रंग सेजिसमें मिला हो-शहीदों की शहादत का रंग,बुद्ध के शांति का रंग,राधा-कृष्ण के प्रेम का रंग,श्री राम के मर्यादा का रंग,माता सीता की सहिष्णुता का रंग,उर्मिला के त्याग का रंग,माँ शारदा की वीणा के धुन का रंग,नटराज के नृत्य का रंग,शिवाजी के हुँकार … Continue reading होली

Welcoming 2022: Lessons from the past and Hopes for the future

2021 was supposed to bring people together and heal the devastating wounds of 2020. 2020, as we all know, was marred by the Covid-19 pandemic. Though the year started on a buoyant note with the country successfully developing two vaccines, and commencing the world’s largest vaccination drive, what followed four months into the year was … Continue reading Welcoming 2022: Lessons from the past and Hopes for the future