कल ढली शाम अलग थी,

आज सुबह का रूप अलग है

बह रही थी जो मंद-मंद कल तक,

आज हवाओं का रुख अलग है

डूब गया था जो अंधेरे में

आज, सूरज की धूप अलग है।


यह सुबह नई शुरुआत है

नव-भारत के सृजन की

राष्ट्र के निर्माण को,

भारत-समुद्र के मंथन को।

सुनो हुंकार हवाओं की

मेघों का गर्जन

शंखनाद है परिवर्तन का

हो रही है  ‘नव’ सर्जना

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s