ये आँखें, ये नयन और न जाने क्या-क्या,
कभी ये इतनी बार झपकती है कि
जिसका इंतज़ार रहता है,
जिस खुशी का, वह एक ही बार में पा जाते हैं।
कभी यह ऐसा खेल खेलती है कि
चाहते हुए भी झपकती नहीं।
टकटकी लगाए हुए ये निगाहें उस
रास्ते की तरफ़ देखते रहती है।
कभी ऐसा स्वांग रचती हैं कि,
हम कठपुतलियां वो देख लेते हैं,
जिन पर कभी भरोसा ना किया जा सकता।
खुशी में ये आँखें भिगोती हैं,
अजब-गजब है इनका रेल-पेला।
गम की तो ये संगिनी होती है।
जहाँ वे, वहाँ ये।
गम तो इन चलते-फिरते राहगीरों की ऐनक होती है,
हम इनमें अपनी असलियत से गुफ्तगू करते हैं।
कभी यही आँखें ऐसी रचना रचती हैं कि,
मन इनकी इस सदा बहार यौवन की सुंदरता को निहारने का करता है।
कौन हैं ये नैन? कैसे हैं ये नैन?
नैनों की भाषा नैन ही जाने और इनके दीवाने!

– आकांक्षा इरा
असैनिक अभियंत्रण
सत्र- २०१९
बी.आई.टी. सिंदरी

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s