आग

अंदर भी है

और बाहर भी।

एक ऊर्जा दे रही है

तो दूसरी जला रही है।

पर खूबी है एक-सी,

जलाकर अस्तित्व मिटा देती है।

दोनों को बुझा दिया है नीर से

पर एक ने छोड़ा है अवशेष

तो दूसरे ने बना दिया है अवशेष मुझे।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s